झज्जर । किसान आंदोलन में शामिल लोगों द्वारा एक व्यक्ति को जिंदा जला देने के मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। दअसल, बुधवार देर रात को बहादुरगढ़ बायपास पर स्थित कसार गांव के पास मुकेश को जिंदा जला दिया गया था। उसकी उपचार के दौरान मौत हो गई थी। गांव वालों ने इस घटना को लेकर होकर किसान आंदोलन पर भी सवाल उठाए थे और किसानों की झोपड़िया हटाने की मांग की थी।
पुलिस ने बताया कि मुख्य आरोपी हरियाणा के जींद जिले के रायचंद गांव का रहने वाला है। इसकी पहचान कृष्ण के तौर पर हुई है। आरोपी ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है। पुलिस पूछताछ में पता चला है कि आरोपी करीब 10 दिन से किसान आंदोलन में शामिल था और मृतक भी अक्सर किसानों के बीच बैठकर शराब का सेवन करता था। 
बहादुरगढ़ के सेक्टर 6 थाना प्रभारी जय भगवान ने बताया कि मृतक मुकेश ने कृष्ण संदीप और दो अन्य लोगों के साथ बैठकर शराब का सेवन किया था। इसी दौरान मृतक ने किसान आंदोलन को लेकर कुछ गलत शब्दों का प्रयोग किया। इसके बाद गुस्से में आरोपियों ने इस घटना को अंजाम दिया है। उन्होंने बताया कि वारदात के अन्य तीन आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास भी किए जा रहे हैं। मुख्य आरोपी कृष्ण को रिमांड पर लेकर इस घटना के बारे में भी जानकारी और सुबूत जुटाए जाएंगे। हालांकि, घटनास्थल के नजदीक स्थित पेट्रोल पंप से भी सीसीटीवी फुटेज जुटाने की तैयारी में पुलिस जुटी हुई है।
पुलिस थाना प्रभारी जयभगवान ने बताया कि पेट्रोल पंप की सीसीटीवी मशीन काफी दिनों से खराब बताई गई है। लेकिन तकनीकी लोगों की मदद से उस में मौजूद डाटा जुटाया जाएगा। मुकेश के मरने से पहले हॉस्पिटल में लोगों द्वारा बनाई गई वीडियो को भी जांच में सबूत के तौर पर शामिल किया है। फिलहाल पुलिस हत्या की इस वारदात में शामिल दूसरे आरोपियों की गिरफ्तारी और पहचान के प्रयास में जुटी हुई है।