पेट्रोल डीजल के दाम पर राजयसभा तथा लोकसभा में कांग्रेस ने दिया स्थगन प्रस्ताव
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर सदन की महिला सदस्यों को बोलने के लिए विशेष मौका दिया

नई दिल्ली। संसद में बजट सत्र के दूसरे चरण की शुरुआत सोमवार से हो गई। इस क्रम में पहले राज्यसभा की कार्यवाही शुरू हुई। पेट्रोल-डीज़ल की कीमतों पर चर्चा करने की मांग को लेकर कांग्रेस के हंगामे के बाद राज्यसभा की कार्यवाही 11 बजे तक के लिए स्थगित हुई। विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खडगे ने सदन में कहा, 'पेट्रोल और डीजल की कीमतें 100 रुपये प्रति लीटर और 80 रुपये प्रति लीटर है। एलपीजी की कीमतें भी बढ़ गई हैं। एक्साइज ड्यूटी/सेस लगाने से 21 लाख करोड़ की राशि जमा हुई इसके कारण किसानों समेत पूरा देश मुश्किलों का सामना कर रहा है। कांग्रेस सांसदों की ओर से राज्यसभा के साथ-साथ लोकसभा में भी पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों को लेकर स्थगन प्रस्ताव दिया है। राज्यसभा में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और लोकसभा में कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने स्थगन प्रस्ताव पेश किया।
  इसबीच सोमवार, 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर सदन के अध्यक्ष  ने कहा कि आज का दिन दुनिया भर में महिलाओं की सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक योगदान व उपलब्धियों को मनाने और उन्हें सम्मानित करने का दिन है। भारतीय जनता पार्टी की सांसद सोनल मानसिंह ने सदन में 'अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस' मनाने की भी मांग की। सभापति वेंकैया नायडू ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर सदन की महिला सदस्यों को बोलने के लिए विशेष मौका दिया। इस पर चर्चा की शुरुआत सांसद छाया वर्मा ने की, उसके बाद सरोज पांडेय, सोनल मानसिंह, प्रियंका चतुर्वेदी, डॉक्टर फौज़िया खान और डॉक्टर अमी याज्ञिक इत्यादि ने अपनी बात रखी।

संसद की लाइब्रेरी इस साल अपने 100 साल पूरे करेगी:
सदन के अध्यक्ष ने कहा,'संसद की लाइब्रेरी इस साल अपने 100 साल पूरे करेगी, इसमें 14 लाख किताबें और सैंकड़ों जर्नल हैं। मुझे बताया गया है​ कि संसद की लाइब्रेरी में जाने वाले सांसदों की संख्या काफी संतोषजनक नहीं है। मैं सांसदों से लाइब्रेरी का प्रभावी इस्तेमाल करने की अपील करता हूं।' सदन के अध्यक्ष वेंकैया नायडू ने कहा, 'राज्यसभा में विपक्ष के नेता के तौर पर मल्लिकार्जुन का स्वागत करता हूं। वे देश में लंबे समय तक काम करने वाले नेताओं में से एक हैं।' उन्होंने कहा, 'मैं सभी सदस्यों से सदन में उपस्थित रहने की अपील करता हूं ताकि यहां होने वाले डिबेट में हिस्सा ले वो अपने ज्ञान को बढ़ा सकें।'

संसद परिसर के अंदर सांसदों के टीकाकरण की व्यवस्था: 
इस बीच लोकसभा सचिवालय ने संसद परिसर के अंदर सांसदों के टीकाकरण की व्यवस्था की है। उन्होंने कहा कि टीकाकरण अभियान के बाद सुबह 11 बजे से दोनों सदनों की एक साथ बैठक हो सकती है। वर्तमान में कोविड-19 महामारी के कारण संसद की बैठक दो सत्रों में होती है, राज्यसभा की बैठक सुबह में और लोकसभा की बैठक शाम में होती है।