फरीदाबाद । फरीदाबाद जिले की खोरी कॉलोनी में खुद का मकान टूटने के सदमे में एक बुजुर्ग ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। इस सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और घटनास्थल का मुआयना किया। इसके बाद, जब पुलिस ने शव को कब्जे में लेने का प्रयास किया तो स्थानीय लोगों ने विरोध करना शुरू कर दिया। पांच मिनट तक यह विरोध चलता रहा। हालांकि, बाद में पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए लोगों को खदेड़ा और शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया।
परिजनों का कहना है कि गणेशीलाल करीब 15 साल से खोरी कॉलोनी में कच्चा मकान बनाकर रहते थे। करीब 100 गज जमीन इनके पास थी। एक महीने पहले इन्होंने उस जमीन पर दो कमरे बनवाकर रहना शुरू किया था। वह खाट बुनने का काम करते थे। अब सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर सभी मकानों को तोड़ने की तैयारी हो रही है। इस बात से गणेशीलाल परेशान रहते थे। इसके चलते उन्होंने मंगलवार की रात फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। मृतक की पहचान गणेशीलाल (72) के रूप में हुई है। परिजनों के मुताबिक एक महीने पहले ही उन्होंने अपना मकान दो लाख रुपए खर्च कर बनवाया था। इसके पहले कच्चे मकान में रहते थे। इनके दो बेटे और उनकी बहुएं भी साथ रहती है। बताया जा रहा है कि गांव में बुजुर्ग की आत्महत्या के बाद लोगों के बीच तनाव है। ऐसे में सूरजकुंड इलाके में पुलिस अलर्ट कर दी है। खोरी के चारों ओर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। महिला पुलिसकर्मियों की भी तैनाती की गई है। सुरजकुंड पर्यटन स्थल में प्रवेश करने वाले सिल्वर जुबली मुख्य गेट के सामने पुलिस के जवानों से भरी अनेक बसें खड़ी थी। पीसीआर सहित निजी वाहनों में पुलिस के जवान गश्त करे रहे हैं।