नई दिल्ली । राहुल गांधी के बाद कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी देश में लगातार बढ़ते कोरोना के मामलों और स्वास्थ्य व्यवस्था की लचर हालत को लेकर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन उत्पादन में भारत दुनिया के सबसे बड़े देशों में से एक है तो फिर यहां इसकी कमी क्यों है? उन्होंने कहा कि सरकार के पास समय था लेकिन इसके बावजूद कुछ नहीं किया और सरकार चुनाव में व्यस्त है। कोरोना की स्थिति पर प्रियंका गांधी ने कहा कि यह सरकार दुबई में आईएसआई से बात कर सकती है लेकिन विपक्ष से बात नहीं कर सकती। उनके सुझावों पर चर्चा नहीं कर सकती। आपके पास कोरोना की पहली और दूसरी लहर के बीच 8 से 9 महीनों का समय था। आपके खुद के सीरो सर्वे यह संकेत दे रहे थे कि दूसरी लहर आएगी लेकिन आपने इसपर ध्यान नहीं दिया।  भारत में सिर्फ 2 हजार ट्रक ही ऑक्सीजन ट्रांसपोर्ट कर सकते हैं। यह कैसी विडंबना है कि ऑक्सीजन उपलब्ध है लेकिन वहां नहीं पहुंच पा रहा जहां उसे पहुंचना चाहिए। पिछले 6 महीनों में 11 लाख रेमेडेसिविर इंजेक्शन का निर्यात किया गया और आज हम किल्लत से जूझ रहे हैं। प्रियंका गांधी ने भारत की ओर से कोरोना टीका निर्यात किए जाने को लेकर भी सवाल खड़े किए। उन्होंने कहा कि जनवरी से मार्च के बीच सरकार ने 6 करोड़ कोरोना वैक्सीन निर्यात की। इस दौरान सिर्फ 3 से 4 करोड़ भारतीयों को ही टीका दिया गया था। भारतीयों को प्राथमिकता क्यों नहीं दी गई? वैक्सीन की कमी खराब योजनाओं के कारण हुई। रेमेडेसिविर की किल्लत इसलिए हुई क्योंकि कोई योजना नहीं थी, ऑक्सीजन की कमी इसलिए हुई क्योंकि कोई रणनीति नहीं थी। यह सरकार की विफलता है।