नई दिल्ली ।नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला, जम्मू में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा है कि 28 साल वादे किए गए कि हम कश्मीरी पंडितों को वापिस लेकर आएंगे। 5 साल तो हो गए इनके, ये 5 साल भी चले जाएंगे। कश्मीरी पंडित आज भी इंतजार कर रहा है वो दिन कब आएगा। फारूक अब्दुल्ला ने कहा है कि अगर जम्मू कश्मीर पाकिस्तान जाना चाहता तो 1947 में ऐसा हो जाता। कोई भी इसे रोक नहीं सकता था। लेकिन हमारा राष्ट्र महात्मा गांधी का भारत है। बीजेपी का भारत नहीं। फारूक अब्दुल्ला के बाद उनके बेटे उमर अब्दुल्ला ने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। उमर अब्दुल्ला ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा है कि वो कहते हैं कि आर्टिकल 370 और 35ए को हटने से जो लोग भारतीय व्यवस्था से विचलित थे उन्हें पूरी तरह से देश के बाकी हिस्सों में आत्मसात कर लिया जाएगा। उमर ने कहा है कि मैं विश्वास के साथ कहना चाहूंगा कि इससे ये लोग पहले से भी अधिक अलग-अलग हो गए हैं। उमर अब्दुल्ला ने पूछा कि विकास कार्य कहा है? 1 साल तीन महीने इस तरह की परियोजनाओं को शुरू करने के लिए काफी लंबा है। आर्टिकल 370 और 35ए को हटाने को लेकर उमर अब्दुल्ला ने कहा कि यह जम्मू-कश्मीर के लिए यह सबसे बड़ा गलत कदम उठाया गया है। हम अपनी भूमि पर सुरक्षित नहीं हैं।