नई दिल्ली । देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर अभी भी बरकरार है, हालांकि इसकी रफ्तार पहले के मुकाबले बहुत धीमी हो चुकी है। ऐसे में जोर- शोर जारी टीकाकरण अभियान ही इस महामारी से बचने का एक विकल्प दिखाई पड़ता है। दो डोज में दी जाने वाली कोरोना वैक्सीन को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के मुख्य चिकित्सा सलाहकार डॉ। एंथनी फाउची ने कहा कि दोनों डोज के बीच गैप बढ़ाने से लोगों में कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। डॉ फाउची भारत सरकार द्वारा पिछले महीने दो डोज के बीच गैप बढ़ाए जाने के निर्णय को लेकर किए गए सवालों का जुवाब देते हुए यह बात कही। डा। फाउची अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जीज एंड इंफेक्शियस डिजीज (एनआईएआईडी) के डायरेक्टर भी हैं।
उन्होंने कहा एमआरएनए वैक्सीन जैसे फाइजर के लिए दो डोज के बीच तीन हफ्तों और मॉडर्ना के लिए चार हफ्तों का गैप होना चाहिए, जो सही है।  हमने यूके में देखा है कि उन्होंने डोज के बीच गैप की अवधि को बढ़ा दिया, इस दौरान आप वेरिएंट्स से संक्रमित हो सकते हैं। इसलिए हम समय पर वैक्सीन लगाने की सलाह देते हैं। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि जब आपके पास कम सप्लाई हो तो यह गैप बढ़ाना जरूरी हो जाता है। डॉ फाउची ने कुछ समय पहले भारत सरकार के दो डोज के बीच गैप बढ़ाने के फैसले का समर्थन करते हुए कहा था कि अगर आपके पास वैक्सीन की कमी है, तो दो डोज के बीच गैप बढ़ाना तार्किक फैसला है। उन्होंने कहा था कि इससे ज्यादा से ज्यादा लोगों को कम से कम एक डोज लग जाएगी। तब फाउची ने कहा था इस बात की संभावना काफी कम है कि दूसरी डोज में देरी से इसकी प्रभाव क्षमता पर असर पड़ेगा। 
फाउची ने कहा भारत के कई राज्यों में हावी हुआ डेल्टा वेरिएंट एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में ज्यादा तेजी से फैलता है। अगर किसी देश में यह वेरिएंट है और वहां पर्याप्त लोगों को वैक्सीनेट नहीं किया है, तो उन्हें इसे लेकर चिंतित होना चाहिए। हमने देखा है कि वैक्सीन नहीं लगाने वाले लोगों में जब डेल्टा वेरिएंट फैलता है तो काफी जल्दी हावी हो जाता है। यही यूके में हो रहा है, वहां 90 फीसदी नए मामले डेल्टा वेरिएंट के कारण आ रहे हैं।